Sunday, 25 September 2011



नए ख्वाबों की बारिश ....

भीगी - भीगी सी है ये फिजा ,
या फिर मेरे ख्वाब कुछ नए हैं ,
आसमान से है बूँद बरसते ,
या किसी के दिल से  ख्याल उमड़ रहे हैं |
संगीत है ये कोई नया या फिर ,
अलफ़ाज़ बदल रहे हैं ,
नयी है ये मुस्कुराहट ,
या फिर जीने के अंदाज़ बदल रहे हैं |
ख़ामोशी है ये कौन सी ,
के ज़िन्दगी फुसफुसा के कह रही है ,
मर-मर कर जीना या फिर ,
जी कर मरना सही है |
बरसात तो है ये लेकिन ,
आज ख्वाब बरस रहे हैं ,
लिखी हुई थी जो दास्ताँ ,
उसके किरदार बदल रहे हैं |
इस से पहले की मन बदल जाये  ,
भीगने  दो खुद को,  
कायनात  की करामात  बदल जाये ,
सजने  दो ज़मीन को |
शक्ल तो वही हो लेकिन ,
हो इंसान नया ,
जब ख्वाबों की बारिश से भीगे मेरा ये जहाँ |




2 comments:

  1. इस से पहले की मन बदल जाये ,
    भीगने दो खुद खुद
    कायनात की करामात बदल जाये ,

    Waah.. Ek antaraal ke baad aapki rachna padhi.. Acchhi lagi.. Badhai..

    ReplyDelete
  2. apka bahut bahut shukriya anil ji ....galti sudharne ke liye bhi or saath hi mere rachnao ki tareef karne ke liye bhi...

    ReplyDelete